सफेद मूसली के फायदे और नुकसान | Safed musli ke fayde aur nuksan hindi mei

सफेद मूसली के फायदे और नुकसान | Safed musli ke fayde aur nuksan hindi mei

सफेद मूसली के फायदे और नुकसान | Safed musli ke fayde aur nuksan hindi mei

इस लेख में हम एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी सफेद मूसली के फायदे और नुकसान के बारे में चर्चा करेंगे जिसका वैज्ञानिक नाम Chlorophytum Borivilianum है। सफेद मूसली एक ऐसी आयुर्वेदिक औषधीय है जो भारत के अलग-अलग जंगलो में पायी जाती है। वैसे तो भारत में कई स्थान पर इसकी खेती की जाती है लेकिन मान्यता ये है कि कई जंगलो में और गीली जगहों पर यह अपने आप उग जाती है। मूसली आम तौर से 2 तरह की पायी जाती है सफेद मूसली और काली मूसली लेकिन दोनों में से सफेद मूसली बेहतर मानी जाती है। इसका पौधा करीब 1 से 1.5 फ़ीट लम्बा होता है। (सफेद मूसली के फायदे और नुकसान)

सफेद मूसली एक ऐसी शक्ति प्रदान करने वाली जड़ी-बूटी है जिसका मुख्य इस्तेमाल सेक्स पावर बढ़ाने के लिए किया जाता है। लेकिन इसके फायदे सिर्फ सेक्स क्षमता बढ़ाने तक ही सिमित नहीं है बल्कि सफेद मूसली से गठिया, डायबिटीज आदि बीमारियों को दूर करने में भी मदद मिलती है। सफेद मूसली का इस्तेमाल आयुर्वेदिक, होमियोपैथी एवं यूनानी चिकित्सा में भी किया जाता है। सफेद मूसली के फायदों को देखते हुए अब यह मार्केट में आसानी से उपलब्ध हो जाती है। (सफेद मूसली के फायदे और नुकसान)

सेक्स संबंधी समस्याओं में सफेद मूसली बहुत ज्यादा फायदेमंद है और कुछ जगहों पर सफेद मूसली को हर्बल वियाग्रा के नाम से भी जाना जाता है। हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार सफेद मूसली की जड़े सबसे ज्यादा फ़ायदेमंद होती है, इन जड़ो में विटामिन्स और मिनरल्स के तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते है। सफेद मूसली की जड़ो और बीजो का इस्तेमाल सबसे ज्यादा औषधीय के रूप में किया जाता है। (सफेद मूसली के फायदे और नुकसान)

सफेद मूसली के सेवन से पहले इसकी खुराक का मालूम होना बहोत जरुरी है अन्यथा इसके नुकसान सामने आ सकते है। आप सफेद मूसली को दिन में दो बार खाना खाने के 2 घंटे बाद दूध से ले सकते है। यदि आपको इसके सेवन के बाद भूख में कमी लगती है तो इसकी खुराक कम कर देनी चाहिए साथ ही इस बात का भी ध्यान रखे कि सफेद मूसली का उतना ही सेवन करे जितना आपसे पच सके। कई महत्वपूर्ण फायदों से भरपूर सफेद मूसली के कुछ नुकसान भी है जिनके बारे में जानकारी लेना भी बहोत जरुरी है तो चलिए जानते है सफ़ेद मूसली के फायदे और नुकसान के बारे में। (सफेद मूसली के फायदे और नुकसान)

सफेद मूसली के फायदे और नुकसान | Safed musli ke fayde aur nuksan hindi mei
सफेद मूसली | Safed musli

सफेद मूसली के फायदे (Benefits of Safed musli in hindi)-

  • सफेद मूसली का मुख्य रूप से सेवन यौन क्षमता और शारीरिक क्षमता बढ़ाने के लिए किया जाता है।
  • सफेद मूसली के सेवन से मधुमेह और हाई ब्लड प्रेशर की समस्या भी कम की जा सकती है।
  • सफेद मूसली के सेवन से पेट सम्बंधित रोगों से भी छुटकारा पाया जा सकता है जैसे पेट दर्द, पेट में गड़बड़, दस्त व् बिगड़ी पाचन क्रिया को भी सुधारने में भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • स्तनपान कराने वाली महिलाओ के लिए भी सफेद मूसली बेहद फायदेमन्द मानी गयी है क्योकि इससे स्तनों में दूध की मात्रा बढ़ती है।
  • इसमें कई प्रकार के antioxidants और anti inflammatory गुण पाए जाते है जिससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।
  • सफ़ेद मूसली का इस्तेमाल वजन को नियंत्रण में रखने में भी कारगार है।
  • गर्भावस्था में भी सफेद मूसली का उपयोग बहोत फायदेमंद माना गया है।
  • शारीरिक फायदों के साथ-साथ इसके मानसिक फायदे भी है, यह मष्तिष्क की कार्य प्रणाली को भी बेहतर बनाता है।

सफेद मूसली के नुकसान (Side effects of Safed musli in hindi)-

  • सफेद मूसली का इस्तेमाल हमेशा सिमित मात्रा में ही करना चाहिए अन्यथा इसके कई नुकसान सामने आ सकते है, इससे जी मतलाना या उलटी जैसी समस्या हो सकती है।
  • इसके अधिक सेवन से भूख कम लगती है और पेट भरा हुआ लगता है।
  • सफेद मूसली के अधिक सेवन से शरीर में कफ बढ़ता है और कफ से जुड़ी समस्याओं की संभावना बढ़ती है।
  • इसका सही मात्रा में सेवन न करने से पाचन सम्बन्धी समस्या भी उत्पन्न हो सकती है।

सफेद मूसली से जुड़े हुए कुछ महत्वपूर्ण सवाल-

सफेद मूसली दूध में मिलाकर पीने से क्या होता है?

सफेद मूसली का दूध के साथ सेवन करने से शारीरिक ऊर्जा बढ़ती है, सेक्स क्षमता बढ़ती है एवं शारीरिक कमज़ोरी दूर होती है।

सफेद मूसली कितनी मात्रा में लेनी चाहिए?

सफेद मूसली के सेवन से पहले किसी हेल्थ एक्सपर्ट या आयुर्वेदिक चिकित्सक से अवश्य मिले ताकि आपको कब कितनी मात्रा में इसे खाना है इसका पता किया जा सके क्योकि अधिक मात्रा में लेने से इसके कई नुकसान हो सकते है।

सफेद मूसली का सेवन कैसे करें?

सफेद मूसली का सेवन चिकित्सक द्वारा बताई गयी मात्रा में खाना खाने के २ घंटे बाद दूध के साथ कर सकते है, अधिक जानकारी के लिए अपने चिकित्सक से सलाह ले।

इन्हे भी पढ़े – कलौंजी के फायदे और नुकसान | Kalonji ke fayde aur nuksan hindi mei

हरड़ के फायदे और नुकसान | Harad ke fayde aur nuksan hindi mei

ज़रूरी सूचना – इस लेख में सारी जानकारी तथ्यों के आधार पर दी गयी है, अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श ले। यह पेज इस जानकारी के लिए किसी भी ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.