सदाबहार फूल के फायदे और नुकसान | Sadabahar phool ke fayde aur nuksan hindi mei

सदाबहार फूल के फायदे और नुकसान | Sadabahar phool ke fayde aur nuksan hindi mei

सदाबहार फूल के फायदे और नुकसान | Sadabahar phool ke fayde aur nuksan hindi mei

हेलौ प्रिय दोस्तों, आज हम इस लेख में बात करेंगे सदाबहार फूल के फायदे और नुकसान के बारे में। सदाबहार फूल को एक आयुर्वेदिक दवाई कहा जा सकता है। यह औषधीय गुणों से भरपूर होता है। इस लेख में हम यही जानेंगे कि सदाबहार फूल के फायदे और नुकसान क्या क्या है, इस में कौन-कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं, और कैसी स्थिति में लेना इसे फायदेमंद होता है। इसके साथ ही में आपको बताते चलू की सदाबहार फूल के साथ साथ इसकी छाल, पत्तियां सभी औषधीय गुणों से भरपूर होते हैं। (सदाबहार फूल के फायदे और नुकसान)

सदाबहार का पौधा मध्यम हाइट का होता है। यह भारत में अधिकतर घरों में पाया जाता है। सदाबाहर फूल पंखुड़ियों वाला और गुलाबी रंग का होता है। इसे सदाबाहर कहा जाता है क्यूंकि इसके पौधे में साल भर फूल आते है। सदाबहार फूल में हाइपोग्लेमिक प्रॉपर्टी होती है जो रक्त शर्करा को कम करने में सहायक होती है। सदाबहार फूल का रस पीने से डायबिटीज के मरीजों को काफी फायदा मिलता है। सदाबहार फूल में अल्कली एलिमेंट जैसे रेसर्पिन, इंडोली, विनक्रिस्टीन, विनब्लास्टिन पाए जाते हैं। जो बॉडी में से जहरीले तत्वों को बाहर निकालने में मदद करते हैं।

सदाबहार की पत्तियों में विंडोलीन पाया जाता है, जो नाक और गले के इन्फेक्शन की समस्या में बेहद फायदेमंद होता है। सदाबहार के पत्तों के जूस का सेवन करने से नर्वस सिस्टम की कार्यप्रणाली अच्छी रहती है साथ ही इसकी जड़ों की छाल का चूर्ण खाने से रक्तचाप जैसी समस्याओं में भी लाभ मिलता है। क्योंकि इसकी जड़ों में अल्कलॉइड होता है जो रक्तचाप संतुलित करने में मदद करता है। सदाबहार की जड़ वाइब्रो कोलोरी ( हैजा बीमारी उत्पन्न करने वाला केमिकल) को बनने से रोकने में मदद करती है। (सदाबहार फूल के फायदे और नुकसान)

सदाबहार के फूल, पत्ते त्वचा संबंधी रोगों जैसे फुंसी, घाव, जलन, खुजली व रैशेज में काफी फायदेमंद होते हैं, इनके पत्तों का पेस्ट प्रभावित एरिया पर लगाने से काफी राहत मिलती है। इसके साथ ही इसके रस का सेवन करने से मानसिक तनाव और डिप्रेशन जैसी समस्या से भी निजात पाई जा सकती है। एक ओर जहाँ इसके इतने फायदे हैं वही इसके कुछ नुकसान भी हैं। इसलिए किसी भी ऐसी चीज का सेवन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। (सदाबहार फूल के फायदे और नुकसान)

सदाबहार फूल के फायदे और नुकसान | Sadabahar phool ke fayde aur nuksan hindi mei
सदाबहार फूल | Catharanthus rose

सदाबहार फूल के फायदे (Benefits of Sadabahar flower in hindi)-

  • सदाबहार फूल बॉडी में से जहरीले तत्वों को बाहर निकालने में मदद करता है।
  • सदाबहार फूल का रस पीने से डायबिटीज के मरीजों को फायदा मिलता है।
  • ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर की समस्या में भी सदाबहार फूल फायदेमंद होता है।
  • सदाबहार की पत्तियां नाक और गले के इन्फेक्शन की समस्या से बचाने में मदद करती है।
  • यह नर्वस सिस्टम की कार्यप्रणाली अच्छा करने में भी मदद करता है।
  • सदाबहार हैजा जैसी बीमारियों को रोकने में भी मदद करता है।
  • त्वचा संबंधित समस्याओं में भी सदाबहार फूल काफी फायदेमंद होता है।

सदाबहार फूल के नुकसान (Side effects of Sadabahar flower in hindi)-

  • एलर्जीक लोगों को इसका सेवन करने से बचना चाहिए।
  • गंभीर बीमारी के लोगों को भी इसका सेवन डॉक्टर की परामर्श सही करना चाहिए।
  • अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से घबराहट और पेट संबंधी समस्याएं हो सकती है।

यह भी पढ़े – बेलपत्र के फायदे और नुकसान | Belpatra ke fayde aur nuksan hindi mei

कचनार के फायदे और नुकसान | Kachnar ke fayde aur nuksan hindi mei

सदाबहार फूल से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सवाल –

सदाबहार के पत्ते खाने से क्या होता है?

सदाबहार के पत्ते के रस का सेवन करने से बहुत सारे शारीरिक फायदे होते हैं।

सदाबहार के फूल खाने से क्या होता है?

सदाबहार के फूलों का सेवन करने से रक्त शर्करा का संतुलन बना रहता है।

सदाबहार के पत्ते फेस पर लगाने से क्या होता है?

सदाबहार के पत्तों का फेस पैक लगाने से कील मुहांसों की समस्या में राहत मिलती है।

सदाबहार के पत्ते कैसे खाएं?

सदाबहार के पत्तों को सुखाकर उनका चूर्ण बनाकर उसका सेवन किया जा सकता है। इसके साथ ही इसके पत्तों का रस बनाकर भी इसका सेवन किया जा सकता है।

ज़रूरी सूचना – इस लेख में सारी जानकारी तथ्यों के आधार पर दी गयी है, अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श ले। यह पेज इस जानकारी के लिए किसी भी ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.