प्याज़ खाने के फायदे और नुकसान | Pyaz khane ke fayde aur nuksan

प्याज़ खाने के फायदे और नुकसान | Pyaz khane ke fayde aur nuksan hindi mei

प्याज़ खाने के फायदे और नुकसान | Pyaz khane ke fayde aur nuksan hindi mei

प्याज़ एक ऐसी चीज़ है जिसे लगभग हर सब्ज़ी बनाने में इस्तेमाल किया जाता है, बिना प्याज़ के समझो सब्ज़ी अधूरी सी लगती है। प्याज़ को विज्ञान में एलियम सेपा (Allium cepa) नाम से जाना जाता है। प्याज़ को भारत में कई नामो से जाना जाता है जैसे हिंदी में कांदा, तमिल में वैंगयम, मलयालम में सवाना, तेलुगु में उलीपायालु, कन्नड़ में उलीगादादे, बंगाली में पियाज़ और गुजरती और मराठी में कांदा कहा जाता है। (प्याज़ खाने के फायदे और नुकसान)

भारत में सबसे ज्यादा प्याज़ की पैदावार महाराष्ट्र में होती है, यहाँ साल में 2 बार प्याज की फसल होती है एक बार नवंबर के महीने में होती है और दूसरी बार मई महीने के आसपास होती है। भारत से आसपास के कई देशो में प्याज भेजा जाता है जैसे पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल आदि। प्याज़ की फसल अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग समय पर तैयार होती है। विश्व में प्याज करीब 1,800 हजार हेक्टर क्षेत्रफल में उगाई जाती हैं, जिससे करीब 25,500 हजार मी. टन उत्पादन होता है। भारत में सबसे अधिक प्याज़ की खेती महाराष्ट्र छेत्र में होती है।

प्याज़ एक कंदीय सब्ज़ी है जिसके कंद सब्ज़ी के रूप में उपयोग किये जाते है। प्याज़ का इस्तेमाल लगभग सभी प्रकार की सब्ज़ी, मसाले और सलाद बनाने के लिए किया जाता है। प्याज़ में कई एंटीऑक्सीडेंट के तत्व पाए जाते है जो मानव शरीर के लिए बहोत ही प्रभावशाली माने जाते है। कई वर्षो से प्याज़ मानवो के मुख्य आहार में से एक आहार है। प्याज़ विश्व स्तर पर सबसे ज्यादा विकसित और खेती वाली फसल में से एक फसल है। (प्याज़ खाने के फायदे और नुकसान)

प्याज़ (Onion)

प्याज एक ऐसी चीज़ है जो प्राचीन काल से घरेलु उपचार के लिए जानी जाती है जैसे प्याज के रस की कुछ बुँदे कान के दर्द से पीड़ित व्यक्तियों के लिए बहोत फायदेमंद हो सकती है। इसके लिए रुई के एक टुकड़े के ज़रिये से कान में हो रही सनसनाहट को दूर करने के लिए प्याज़ के रस का उपयोग किया जा सकता है इस उपाय से कान की समस्या से राहत मिल सकती है। (प्याज़ खाने के फायदे और नुकसान)

एक रिपोर्ट के अनुसार ज्यादातर लोग कान की समस्या के लिए प्याज़ के रस का इस्तेमाल करते है, उन लोगों का मानना है कि प्याज को गरम करके उसका रस निकाल कर कुछ बुँदे कान में डालने से कान की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। (प्याज़ खाने के फायदे और नुकसान)

अनगिनत फायदों के साथ-साथ प्याज़ के कुछ नुकसान भी है जिनका ध्यान रखना बहोत जरुरी है इसलिए इस लेख में हम प्याज से होने वाले फायदे और नुकसान दोनों के बारे में बात करेंगे तो चलिए देखते है प्याज़ से होने वाले फायदे और नुकसान के बारे में- (प्याज़ खाने के फायदे और नुकसान)

प्याज खाने के फायदे –

  • डायबिटीज का इलाज़ – प्याज़ में एक तरह का बायोटिन पाया जाता है जो मानव शरीर पर कई तरह से सकारात्मक प्रभाव डालता है जिसमे से एक डायबिटीज से जुड़े लक्षणो का सामना करता है।
  • प्रतिरोधक छमता में उपयोगी – प्याज़ में ऐसे कई पोषक तत्व पाए जाते है जो मानव शरीर की प्रतिरोधक छमता बढ़ाने में असरदार साबित हो सकते है।
  • मौखिक स्वास्थ में असरदार – कच्चे प्याज 2 से 4 मिनट तक चबाने से मौखिक क्षेत्र में और गले और होंठ जैसे आसपास सभी जगहों में मौजूद सभी जीवाणु को संभावित रूप से खत्म करने में मदद करते हैं। दांतो और मुँह के संक्रमण को रोकने के लिए भी प्याज़ फायदेमंद है।
  • त्वचा के लिए – प्याज़ में बायोटिन नामक तत्व पाए जाते है जो त्वचा के लिए बहोत महत्वपूर्ण माने गए है।
  • इन्सेक्ट बाईट में उपयोगी – आप प्याज़ के रस का उपयोग मधुमक्खी के डंक से होने वाले दर्द में भी कर सकते है।
  • कैंसर का इलाज़ – प्याज़ के औषधीय गुण कई रोगो का इलाज़ करने में सक्षम है , यह कैंसर में फैलने वाले इन्फेक्शन को भी रोकने में असरदार साबित हो सकता है।
  • बालों के लिए प्याज़ से इलाज़ – बालों में जूं वगैरह या बालों के झड़ने से छुटकारा पाने के लिए भी आप माथे पर प्याज़ के तेल से मसाज कर सकते है जिससे बालों का झड़ना कम हो सकता है और साथ ही यह आपको बालों में होने वाली दूसरी समस्याओ से भी छुटकारा दिला सकते है। यह बालों के लिए प्याज़ का सबसे मुख्य लाभ है। प्याज़ के रस से मालिश करने पर बालों से रुसी भी खत्म हो जाती है साथ ही आपके बालों का नेचुरल कलर इससे बना रहता है।
  • खांसी में असरदार – प्याज़ के रस और शहद को बराबर मात्रा में मिला कर खाने से इससे खांसी के लक्षण भी खत्म हो सकते है।
  • लू से बचने के लिए – लू से बचने के लिए प्याज का सेवन काफी असरदार माना जाता है।

प्याज़ खाने के नुकसान –

  • गर्मी के मौसम में अधिक मात्रा में प्याज़ खाने से एसिडिटी की समस्या हो सकती है।
  • अधिक मात्रा में प्याज़ खाने से एक तरह की बैक्टीरियल समस्या हो सकती है, यह एक ऐसी समस्या है जिससे आपकी पेट की आँते प्रभावित हो सकती है।
  • कच्चे प्याज़ अधिक मात्रा में खाने से कब्ज़ व पेट दर्द जैसी समस्या हो सकती है।
  • प्याज़ में पोटासियम के तत्व पाए जाते है ऐसे में प्युएज़ के अधिक सेवन से सीने में जलन हो सकती है।
  • कच्चा प्याज़ खाने से मुँह से बदबू की समस्या उत्पन्न हो जाती है, ऐसे में किसी से बात करते वक़्त आपको शर्मिंदगी का सामना करना पढ़ सकता है।

100 ग्राम प्याज़ के पोषक तत्व –

कैलोरी40
कार्बोहाइड्रेट9.3 ग्राम्स
फाइबर1.7 ग्राम्स
प्रोटीन1.1 ग्राम्स
फेट0.1 ग्राम्स
सुपाच्य कार्ब7.6 ग्राम्स
वाटर89%
शुगर4.2 ग्राम्स
सोर्स- healthline.com

प्याज़ से थाइराइड का इलाज कैसे करे?

आजकल की दिनचर्या से जुड़ी बढ़ी बीमारियों में से एक बीमारी थाइराइड भी है। एक अध्ययन के मुताबिक ३२% भारतीय थाइराइड से जुड़ी बीमारी से ग्रसित है। थायराइड गर्दन में एक स्पेशल ग्लैंड को कहा जाता है जो थायरोक्सिन हार्मोन को पैदा करती है। वैसे तो ये हार्मोन मानव शरीर के लिए बहोत जरुरी है लेकिन अगर इसका उत्पादन अधिक मात्रा में होने लगे तो इससे थाइराइड बीमारी हो जाती है। खराब जीवन शैली की वजह से सिर्फ बूढ़े लोग ही नहीं युवा भी इस बीमारी के चपेट में आ रहे है।

थाइराइड से छुटकारा पाने के लिए कई घरेलु इलाज़ मौजूद है उनमे से एक है प्याज़ का इस्तेमाल जिससे थाइराइड नामक बीमारी से लड़ा जा सकता है। पोषक तत्वों से भरपूर प्याज़ कई तरह की बीमारी में काम आती है जैसा की हमने ऊपर लेख में देखा लेकिन यहाँ हम थाइराइड में काम आने वाले प्याज़ से निर्मित घरेलु इलाज़ को चर्चा करेंगे।

प्याज़ के एंटी-इंफ्लामेट्री, एंटी-फंगल और एंटी-बैक्टीरियल गुण हमें थाइराइड से लड़ने में मदद करते है। इस बीमारी के कारण शरीर में आयी सूजन के लिए प्याज़ में पाया जाने वाला सल्फर सूजन कम करने में मदद करता है। इंसानी शरीर में जो टॉक्सिक पदार्थ पाए जाते है उन्हें भी डेटॉक्स करने में प्याज़ मदद करता है।

थाइराइड बीमारी इम्यून सिस्टम के कमज़ोर होने की वजह से शरीर को चपेट में लेती है ऐसे में प्याज़ का सेवन मददगार साबित हो सकता है, साथ ही प्याज़ से गर्दन पर मसाज करने से थाइराइड ग्लैंड से छुटकारा पाया सकता है। रात को नियमित रूप से प्याज़ के मसाज से मरीज़ थाइराइड ग्लैंड से नजात पा सकते है।

प्याज़ से बाल बढ़ाने का तरीका –

प्याज़ का रस बालों के लिए भी बहोत उपयोगी माना गया है, लम्बे बाल रखने के शौक़ीन लोग इस घरेलु इलाज़ से काफी वाकिफ होते है। प्याज़ का रस निकाल कर उसके रस से स्कैल्प पर मसाज करना चाहिए फिर उसको २०-३० मिनट बाद धो लेना चाहिए ऐसा करने से हम बालों की अच्छे से देखभाल कर सकते है। प्याज़ के रस के साथ नारियल के तेल को मिला कर बालों पे लगाने से भी बालों का विकास बहोत अच्छा होता है साथ में इस तरीके से आप बालों को भी बढ़ा सकते है।

शुगर में प्याज़ खाने चाहिए के नहीं –

डायबिटिक पेशेंट यानी शुगर से पीड़ित मरीज़ो को प्याज़ का सेवन करना चाहिए या नहीं इसका उत्तर भी हम इसी लेख में आपको देंगे। दोस्तों प्याज़ में फाइबर और एंटी ऑक्सीडेंट के तत्व पाए जाते है जो कि शुगर पेशेंट के लिए बहोत ही उपयोगी होते है, प्याज़ पाचन तंत्र को अच्छा करता है और बेहतर पाचन तंत्र की वजह से मेटाबोलिक रेट अच्छा होता है जिससे ब्लड शुगर कम करने में आसानी होती है।

यह भी पढ़े – अंजीर खाने के फायदे और नुकसान | Anjir khane ke fayde aur nuksan

ज़रूरी सूचना – इस लेख में सारी जानकारी तथ्यों के आधार पर दी गयी है, यदि आपको कोई भी समस्या हो तो पहले डॉक्टर से परामर्श अवश्य ले।

Leave a Comment

Your email address will not be published.