Moringa Oleifera Common Name uses in Hindi | मोरिंगा ओलीफेरा/सुरजने की फली/ड्रमस्टिक का आम नाम, उपयोग हिंदी में

Moringa Oleifera Common Name uses in Hindi | मोरिंगा ओलीफेरा/सुरजने की फली/ड्रमस्टिक का आम नाम, उपयोग हिंदी में

Table of Contents

Moringa Oleifera Common Name uses in Hindi | मोरिंगा ओलीफेरा/सुरजने की फली/ड्रमस्टिक का आम नाम, उपयोग हिंदी में

हेलौ प्रिय दोस्तों, आज हम इस लेख में बात करेंगे मोरिंगा ओलीफेरा/सुरजने की फली/ड्रमस्टिक का आम नाम, उपयोग (Moringa Oleifera Common Name uses in Hindi) के बारे में। यह एक प्रकार की फली है, जो पौधों में लगती है। इसे बेहद पौष्टिक माना जाता है। इसे खाने के कई फायदे है। इस लेख में हम यही जानेंगे कि मोरिंगा ओलीफेरा/सुरजने की फली/ड्रमस्टिक का आम नाम और उपयोग क्या क्या है, इस में कौन-कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं, और कैसी स्थिति में लेना इसे फायदेमंद होता है। (Moringa Oleifera Common Name uses in Hindi)

अंग्रेजी में इसका नाम मोरिंगा ओलीफेरा है और कुछ लोग इसे ड्रमस्टिक भी कहते हैं। हिंदी में इसे सुरजने की फली, सहजन, सहिजन, सुजना, मुनगा आदि नामों से जाना जाता है। इसमें कई तरह के पोषक तत्व जैसे विटामिन B, विटामिन C, विटामिन E, प्रोटीन, एमिनो एसिड, फाइबर, कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटाशियम आदि पाए जाते है। इसके साथ ही यह एंटी बायोटिक, एंटी बैक्टीरियल, एंटी इन्फ्लैमटरी प्रॉपर्टी से भी भरपूर होता है। (Moringa Oleifera Common Name uses in Hindi)

सहजन में मौजूद पोटेशियम और अन्य पौष्टिक तत्व हाई ब्लड प्रेशर की समस्या को दूर करने के लिए काफी उपयोगी होते हैं इसलिए हाई ब्लड प्रेशर को संतुलित बनाए रखने के लिए सहजन का सेवन करना फायदेमंद होता है। इसके साथ ही इसमें मौजूद कैलशियम मैग्निशियम हड्डियों एवं दातों के स्वास्थ्य के लिए बेहद अच्छे होते हैं, इसलिए बढ़ती उम्र के बच्चों को सहजन खिलाने से उनकी हड्डियां मजबूत होती है। इसके साथ ही सहजन के कई अन्य शारीरिक लाभ होते हैं। तो चलिए जानते हैं मोरिंगा ओलीफेरा यानी सहजन के उपयोग और फायदे। (Moringa Oleifera Common Name uses in Hindi)

Moringa Oleifera Common Name uses in Hindi | मोरिंगा ओलीफेरा/सुरजने की फली/ड्रमस्टिक का आम नाम, उपयोग हिंदी में
Moringa Oleifera Common Name uses in Hindi

Moringa Oleifera uses in hindi (मोरिंगा ओलीफेरा/सुरजने की फली/सहजन/ड्रमस्टिक के उपयोग हिंदी में) –

सहजन का इस्तेमाल कई प्रकार के व्यंजनों को बनाने में किया जाता है। मुख्य रूप से इसका उपयोग साउथ इंडियन साम्भर बनाने में भी किया जाता है। इसके अलावा इसकी सब्ज़ी भी बनती है। व्यंजनों के साथ साथ इसका इस्तेमाल करके आयुर्वेदिक दवाइयों को बनाने में भी किया जाता है। क्यूंकि इसमें भरपूर मात्रा में कई सारे आयुर्वेदिक गुण पाए जाते हैं।

मोरिंगा ओलीफेरा/सुरजने की फली/सहजन/ड्रमस्टिक के फायदे (Benefits of Moringa Oleifera in hindi) –

  • हाई ब्लड प्रेशर की समस्या में सहजन का इस्तेमाल करना फायदेमंद होता है।
  • कोलेस्ट्रोल के स्तर को संतुलित बनाए रखने में भी यह मदद करती है।
  • सहजन का काढ़ा जी घबराना, चक्कर, उल्टी आदि समस्याओं को दूर करने में काम आता है।
  • सहजन में कैल्शियम मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है जिससे हड्डियां और दांत मज़बूत रहते हैं।
  • सहजन की पत्तियां मोटापे की समस्या को दूर करने के लिए भी काफी फायदेमंद होती है।
  • सहजन पाचन क्रिया अच्छी करने में मदद करता है।
  • त्वचा और बालों की सेहत के लिए भी सहजन बेहद फायदेमंद होता है।
  • सहजन का उपयोग स्पर्म काउंट एवं क्वालिटी इंप्रूव करने के लिए भी काफी अच्छा होता है।
  • सहजन में विटामिन सी होता है जो शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का कार्य करता है।
  • सहजन की फली खाने से गर्भावस्था के दौरान डिलीवरी के वक्त ज्यादा दर्द का अनुभव नहीं होता है।

यह भी पढ़े – लहसून खाने के फायदे और नुकसान | Lahsun khane ke fayde aur nuksan in Hindi

Elaichi khane ke fayde aur nuksan bataen in Hindi | इलायची खाने के फायदे और नुकसान बताएं हिंदी में

नूपुर मेहंदी लगाने के फायदे | Nupur mehendi lagane ke fayde hindi mei

मुनक्का खाने के फायदे और नुकसान | Munakka khane ke fayde aur nuksan in hindi

काजू खाने के फायदे और नुकसान | Kaju khane ke fayde aur nuksan bataye in hindi

ओअट्स खाने के फायदे क्या होते है | Oats khane ke fayde kya hote hai in Hindi

मोरिंगा ओलीफेरा/सुरजने की फली/सहजन/ड्रमस्टिक से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सवाल –

मोरिंगा खाने से क्या होता है?

मोरिंगा खाने से कई प्रकार के शारीरिक लाभ होते हैं, जो ऊपर इस लेख में दिए हुए हैं।

मोरिंगा का दूसरा नाम क्या है?

अंग्रेजी में इसका नाम मोरिंगा ओलीफेरा है और कुछ लोग इसे ड्रमस्टिक भी कहते हैं। हिंदी में इसे सुरजने की फली, सहजन, सहिजन, सुजना, मुनगा आदि नामों से जाना जाता है।

सहजन की पत्ती का उपयोग कैसे करें?

सहजन की पत्ती का उपयोग सूप या सब्जी बनाकर किया जा सकता है, इसके साथ ही इसे सुखाकर इसका पाउडर भी बनाया जा सकता है।

ज़रूरी सूचना – इस लेख में सारी जानकारी तथ्यों के आधार पर दी गयी है, अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श ले। यह पेज इस जानकारी के लिए किसी भी ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.