गले में दर्द का घरेलु उपचार | Gale mei dard ka gharelu upchar hindi mei

गले में दर्द का घरेलु उपचार | Gale mei dard ka gharelu upchar hindi mei

गले में दर्द का घरेलु उपचार | Gale mei dard ka gharelu upchar hindi mei

हेलौ प्रिय दोस्तों, आज हम इस लेख में बात करेंगे गले में दर्द का घरेलु उपचार (Gale mei dard ka gharelu upchar) के बारे में। गले का दर्द एक ऐसी समस्या है, जो है तो अस्थायी लेकिन इससे गले को तकलीफ बढ़ी होती है। इसके साथ ही बोलने में भी तकलीफ होती है। गले में दर्द होने के कई कारण हो सकते हैं। यह धूल मिट्टी, प्रदूषण, इन्फेक्शन कई वजह से हो सकती है। इसके साथ ही कुछ गंभीर बीमारियों का भी यह लक्षण हो सकते हैं। ऐसे में डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए। (गले में दर्द का घरेलु उपचार)

आजकल की बिजी लाइफ स्टाइल और खान-पान का असर सीधे सीधे तौर पर शरीर पर होता है। शरीर में बाहर के केमिकल्स की वजह से नई नई तरह की परेशानियां पैदा हो रही है। ऐसे में शरीर का ख्याल रखना बेहद जरूरी होता है। घरेलू उपचार करना सेहत को कई प्रकार से फायदे पहुंचाता है। यह दवाइयों की तरह शरीर पर कोई दूसरा प्रभाव नहीं डालते हैं। हमारे घर में ऐसी कई चीजे है, जो न केवल रसोई के व्यंजनों में काम आती है बल्कि शरीर की कई समस्याओं के उपचार में भी काम आती है। (गले में दर्द का घरेलु उपचार)

गले का दर्द कई प्रकार का हो सकता है। एक होता है जो गंभीर बीमारी का लक्षण हो सकता है, इस समस्या में डॉक्टर से इलाज करवाना ही सबसे अच्छा होता है। और दूसरी हलकी फुलकी किसी एलर्जी या सर्दी जुकाम और कफ के कारण भी गले में दर्द हो सकता है। ऐसी दर्द को ठीक करने के लिए घरेलू उपचार सबसे सटीक होता है। आज हम ऐसे ही कुछ घरेलू उपचार के बारे में बात करेंगे। जिससे न सिर्फ दर्द को कम करने में मदद मिलती है, इसके साथ ही कफ कम करने में भी मदद मिलती है। तो चलिए जानते हैं गले में दर्द का घरेलु उपचार(गले में दर्द का घरेलु उपचार)

गले में दर्द के कारण –

गले में दर्द होने के कई कारण हो सकते हैं। ज्यादतर यह छोटे मोटे इन्फेक्शन या सर्दी जुकाम की वजह से ही होता है। परन्तु यदि आपको ज्यादा दर्द हो तो ऐसे में डॉक्टर को अवश्य दिखाना चाहिए। सर्दी जुकाम के अलावा टॉन्सिल्स की समस्या होने पर भी गले में दर्द हो सकता है। इसके अलावा चिकन पॉक्स, खसरा, काली खांसी, डिप्थीरिया आदि समस्याओं में भी गले में दर्द हो सकता है।

गले में दर्द का घरेलु उपचार (Home remedies for sore throat in hindi)-

गरारे से गले के दर्द का उपचार –

नमक के पानी के गरारे गले से जुड़ी कई तरह की परेशानियों ठीक करने में सहायक होता है। नमक के गरारे करने के लिए पानी को हल्का गर्म करें। फिर इसमें 1 छोटा चम्मच नमक डाल कर घोल लेंगे। अब इस मिश्रण से गरारे करेंगे। यह गले से कफ को साफ़ करने में मदद करता है और दर्द कम करने में सहायता करता है। (गले में दर्द का घरेलु उपचार)

अदरक से गले के दर्द का उपचार

अदरक में एंटी माइक्रोबियल और एंटी इन्फ्लैमटरी प्रॉपर्टी पायी जाती है। यह गले में से कफ को साफ़ करने में मदद करता है और दर्द में राहत पहुंचाता है। इसके साथ ही इसकी तासीर गर्म होती है। इसका उपयोग करने के लिए अदरक की चाय पी जा सकती है। इसके साथ ही अदरक के रस का सेवन शहद के साथ कर सकते हैं। यह गले के दर्द को ठीक करने में काफी हद तक सहायक होता है। (गले में दर्द का घरेलु उपचार)

गर्म पानी से गले के दर्द का उपचार

गर्म यानि कुनकुना पानी गले के दर्द में बहुत अच्छा होता है यह गले को राहत देता है। इसके साथ ही यदि सर्दी जुकाम से गले में दर्द हो तो कुनकुना पानी पीते रहने से दर्द में काफी राहत मिलती है और शरीर भी हाइड्रेटेड रहता है। (गले में दर्द का घरेलु उपचार)

शहद से गले के दर्द का उपचार

शहद में कई प्रकार के औषधीय गुण पाए जाते हैं। इसके साथ ही इसमें एंटी माइक्रोबियल और एंटी इन्फ्लैमटरी प्रॉपर्टी पायी जाती है। इसलिए इन्फेक्शन की वजह से होने वाले गले के दर्द को शहद का इस्तेमाल करके ठीक किया जा सकता है। इसका सेवन सीधे तौर पर किया जा सकता है। इसके साथ ही कुनकुने पानी के साथ मिला कर भी शहद का सेवन किया जा सकता है। (गले में दर्द का घरेलु उपचार)

मुलेठी से गले के दर्द का उपचार

मुलेठी को जड़ी बूटियों की गिनती में गिना जाता है। यह एक प्राकृतिक औषधि है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबायोटिक प्रॉपर्टी पाई जाती है। गले का दर्द कम करने के लिए मुलेठी का इस्तेमाल किया जा सकता है। मुलेठी का इस्तेमाल करने के लिए के छोटे टुकड़े को मुंह में रखकर चूसा जा सकता है। इससे कफ और खांसी दोनों में भी राहत मिलती है। (गले में दर्द का घरेलु उपचार)

दालचीनी से गले के दर्द का उपचार

दालचीनी को औषधि भी कहा जा सकता है, क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं। दालचीनी सिनामोमम ज़ेलेनिकम ब्रेयन (Cinnamomum zeylanicum Breyn) पेड़ की छाल होती है। इसमें कई प्रकार के प्राकृतिक गुण पाए जाते हैं। गले के दर्द के लिए इसका इस्तेमाल करने के लिए इसे पानी में उबाल कर उस पानी का सेवन किया जा सकता है। इसके साथ ही चाय बनाने में भी दालचीनी का उपयोग किया जा सकता है। (गले में दर्द का घरेलु उपचार)

यह भी पढ़े – खांसी के घरेलू उपाय | Khansi ke gharelu upaay hindi mei

सूखी खांसी का बढ़ियां घरेलू उपचार | Sukhi Khansi ka badhiya gharelu upchar in hindi

दालचीनी और शहद के फायदे और नुकसान क्या है? | Dalchini aur Shehad ke fayde aur nuksan kya hai hindi mei

गले में दर्द से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सवाल –

गले के अंदर दर्द हो तो क्या करना चाहिए?

गले में दर्द होने पर आप इस लेख में दिए गए घरेलू उपचार आज़मा सकते हैं। किन्तु यदि आपको ज्यादा दर्द है तो ऐसे में डॉक्टर की सलाह अवश्य लेनी चाहिए।

गले में दर्द क्यों होता है?

गले में दर्द होने के कई कारण होने के कई कारण हो सकते हैं, जो ऊपर इस लेख में दिए गए हैं।

ज़रूरी सूचना – इस लेख में सारी जानकारी तथ्यों के आधार पर दी गयी है, अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श ले। यह पेज इस जानकारी के लिए किसी भी ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.