फोड़े को पकाने का घरेलू उपाय | Fode ko pakane ka gharelu upaay hindi mei

फोड़े को पकाने का घरेलू उपाय | Fode ko pakane ka gharelu upaay hindi mei

Table of Contents

फोड़े को पकाने का घरेलू उपाय | Fode ko pakane ka gharelu upaay hindi mei

हेलौ प्रिय दोस्तों, आज हम इस लेख में बात करेंगे फोड़े को पकाने का घरेलू उपाय (Fode ko pakane ka gharelu upaay) के बारे में। फोड़े को अंग्रेजी में बॉईल कहते हैं, यह ज्यादातर बैक्टीरियल इन्फेक्शन की वजह से होते हैं। इसके साथ ही शरीर में WBC काउंट यानि वाइट ब्लड सेल्स के असंतुलित होने पर भी फोड़े की समस्या हो सकती है। पहले यह लाल रंग के होते हैं और जब इनमे सफ़ेद रंग आने लगता है तो उसके बाद यह पक जाते हैं जिसके बाद आसानी से इन्हे बहाया जा सकता है। (फोड़े को पकाने का घरेलू उपाय)

त्वचा हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। अच्छी त्वचा न केवल सुंदरता बढ़ाती है बल्कि आत्मविश्वास देने में भी काफी सहायक होती है। ऐसे में यदि त्वचा पर किसी भी तरह का धब्बा या फिर फोड़े फुंसी हो जाए तो बहुत अजीब सा लगता है। इन्हे ठीक करने के लिए घरेलू उपचार सबसे अच्छा उपाय है। घरेलू उपचार करना सेहत को कई प्रकार से फायदे पहुंचाता है। यह दवाइयों की तरह शरीर पर कोई दूसरा प्रभाव नहीं डालते हैं। हमारे घर में ऐसी कई चीजे है, जो न केवल रसोई के व्यंजनों में काम आती है बल्कि शरीर की कई समस्याओं के उपचार में भी काम आती है। (फोड़े को पकाने का घरेलू उपाय)

शरीर में फोड़े होने के कारण –

फोड़े की समस्या ज्यादातर बैक्टीरियल इंफेक्शन की वजह से होती है। जैसा कि हम सभी जानते हैं गर्मी और बारिश के मौसम में बैक्टीरियल इंफेक्शन ज्यादा होता है, इसलिए इन्हीं मौसम में फोड़े की समस्या ज्यादा होने लगती है। इसलिए इस मौसम में विशेष तौर पर साफ सफाई पर ध्यान देना चाहिए। इसके अलावा शरीर में डब्ल्यूबीसी यानी वाइट ब्लड सेल्स के असंतुलित हो जाने पर भी फोड़े की समस्या हो सकती है। (फोड़े को पकाने का घरेलू उपाय)

फोड़े को पकाने का घरेलू उपाय (Home remedy for Boils in hindi) –

1. नीम से फोड़े को पकाने का उपचार –

बैक्टीरियल इनफेक्शन फोड़ा होने का सबसे मुख्य कारण होता है, और जैसा कि हम सभी जानते हैं कि नीम में कई तरह के प्राकृतिक गुणों के साथ-साथ एंटीसेप्टिक और एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज पाई जाती है। इसलिए फोड़े की समस्या में नीम का उपयोग करना सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है। फोड़े को पकाने और ठीक करने के लिए नीम का उपयोग करने के लिए आप नीम का पेस्ट बनाकर दिन में तीन से चार बार फोड़े पर लगा सकते हैं।

2. हल्दी से फोड़े को पकाने का उपचार –

नीम की तरह ही हल्दी में भी एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टी के साथ-साथ एंटीफंगल, एंटीमाइक्रोबॉयल और एंटी इन्फ्लेमेटरी प्रॉपर्टी भी पाई जाती है, जो त्वचा के लिए बेहद अच्छी होती है। हल्दी में मौजूद यह प्रॉपर्टीज फोड़े को ठीक करने में मदद करती है। फोड़े को ठीक करने के लिए हल्दी का उपयोग इसका पेस्ट बनाकर किया जा सकता है। हल्दी का पेस्ट बनाने के लिए आप गुलाब जल या किसी भी तरह के तेल जैसे सरसों का तेल नारियल का तेल आदि का उपयोग कर सकते हैं।

3. एलोवेरा से फोड़े को पकाने का उपचार –

एलोवेरा त्वचा के लिए बहुत अच्छा होता है, इसमें मौजूद प्राकृतिक गुण त्वचा को पोषण देते हैं। एलोवेरा में भी एंटी बैक्टीरियल, एंटी फंगल और एंटीमाइक्रोबॉयल प्रॉपर्टी पाई जाती है। इसलिए फोड़े पर इसका इस्तेमाल करने से फोड़े को ठीक करने में मदद मिलती है। एलोवेरा ठंडा होता है इसलिए इसका इस्तेमाल करने से जलन और दर्द को भी कम किया जा सकता है। एलोवेरा का इस्तेमाल फोड़े को ठीक करने के लिए एलोवेरा जेल को सीधे फोड़े पर लगाया जा सकता है।

4. टी ट्री आयल से फोड़े को पकाने का उपचार –

टी ट्री ऑयल एसेंशियल ऑयल की कैटेगरी में आता है। यह त्वचा के लिए बेहद अच्छा माना जाता है। इसमें एंटीबैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक प्रॉपर्टी पाई जाती है, इसलिए फोड़े पर टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल करने से इसे ठीक करने में मदद मिलती है। टी ट्री ऑयल एसेंशियल ऑयल होने के कारण इसे सीधे त्वचा पर इस्तेमाल करने के लिए इसे कैरियर ऑयल यानी नारियल का तेल या फिर ऑलिव ऑयल में मिलाकर लगाया जाता है। इसे रुई की मदद से फोड़े पर लगा सकते हैं।

5. बेकिंग सोडा से फोड़े को पकाने का उपचार –

वैसे तो बेकिंग सोडा कई तरह के व्यंजन बनाने में इस्तेमाल किया जाता है, परंतु इसमें मौजूद गुणों के कारण इसका इस्तेमाल फोड़े को ठीक करने के लिए भी किया जा सकता है। यह फोड़े को पकाकर ठीक करने में सहायक होता है। बेकिंग सोडा का इस्तेमाल फोड़े पर करने के लिए इसे पानी के साथ मिलाकर इसका पेस्ट बनाकर किया जा सकता है।

6. कैस्टर आयल से फोड़े को पकाने का उपचार –

कैस्टर ऑयल में कई तरह के प्राकृतिक गुण मौजूद होते हैं, जो त्वचा के लिए अच्छे होते हैं। इसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी प्रॉपर्टी भी पाई जाती है, जिससे जलन और सूजन को कम करने में सहायता मिलती है। फोड़े पर इसका इस्तेमाल करने के लिए इसे सीधे तौर पर फोड़े पर लगाया जा सकता है। इससे फोड़े को पकाने में मदद मिलती है।

यह भी पढ़े – बोरो प्लस क्रीम के फायदे और नुकसान | Boro plus cream ke fayde aur nuksan hindi mei

सदाबहार फूल के फायदे और नुकसान | Sadabahar phool ke fayde aur nuksan hindi mei

साफी सिरप के फायदे और नुकसान | Safi syrup ke fayde aur nuksan hindi mei

फोड़े से जुड़े कुछ सवाल –

फोड़ा कैसे पकता है?

फोड़ा बैक्टीरियल इंफेक्शन की वजह से होता है, जिससे चमड़ी के ऊपर पस पड़ जाता है।

फोड़े से मवाद कैसे निकाले?

फोड़े से मवाद निकालने के लिए टिशु या पेपर का इस्तेमाल किया जा सकता है। ध्यान रहे आप सीधे हाथों का इस्तेमाल होने से मवाद निकालने के लिए ना करें, क्योंकि ऐसा करने से बैक्टीरिया आपकी त्वचा की अन्य जगह पर फैल सकता है।

फुंसी पकाने के लिए क्या लगाएं?

फुंसी पकाने के लिए घरेलू उपचार इस लेख में दिए गए हैं।

ज़रूरी सूचना – इस लेख में सारी जानकारी तथ्यों के आधार पर दी गयी है, अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श ले। यह पेज इस जानकारी के लिए किसी भी ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.