इलेक्ट्रॉल पाउडर के फायदे और नुकसान | Electral Powder ke fayde aur nuksan hindi mei

इलेक्ट्रॉल पाउडर के फायदे और नुकसान | Electral Powder ke fayde aur nuksan hindi mei

इलेक्ट्रॉल पाउडर के फायदे और नुकसान | Electral Powder ke fayde aur nuksan hindi mei

हेलौ प्रिय दोस्तों, आज हम इस लेख में बात करेंगे इलेक्ट्रॉल पाउडर के फायदे और नुकसान के बारे में। यह एक एलोपैथिक दवाई है। यह पौष्टिक गुणों से भरपूर होती है। इस लेख में हम यही जानेंगे कि इलेक्ट्रॉल पाउडर के फायदे और नुकसान क्या क्या है, इस में कौन-कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं, और कैसी स्थिति में लेना इसे फायदेमंद होता है। भारत में एफडीसी (FDC Private Limited) कम्पनी इलेक्ट्रॉल पाउडर का निर्माण करती हैं। यह काफी किफायती दामों में बाजार में उपलब्ध होती है। (इलेक्ट्रॉल पाउडर के फायदे और नुकसान)

इलेक्ट्रॉल पाउडर 4 तरह के घटकों से मिलकर बनाया जाता है। यह चार घटक है सोडियम क्लोराइड, पोटेशियम क्लोराइड, डेक्सट्रोज, सोडियम साइट्रेट। एक 21.8 ग्राम के इलेक्ट्रॉल पाउडर में 2.60 ग्राम सोडियम क्लोराइड, 1.50 ग्राम पोटेशियम क्लोराइड, 13.50 ग्राम डेक्सट्रोज और 2.90 ग्राम सोडियम साइट्रेट पाए जाते हैं। इलेक्ट्रॉल पाउडर का 21.8 ग्राम का पाउच 1 लीटर पानी के लिए पर्याप्त होता है। इसे 1 लीटर पानी में अच्छी तरीके से घोल कर थोड़ा थोड़ा करके पूरे दिन इस्तेमाल किया जा सकता है। इलेक्ट्रॉल पाउडर कई प्रकार के फ्लेवर में उपलब्ध होता है। (इलेक्ट्रॉल पाउडर के फायदे और नुकसान)

इलेक्ट्रॉल पाउडर मुख्य रूप से शरीर में इलेक्ट्रोलाइट की कमी को पूरा करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इलेक्ट्रोलाइट यानी सोडियम, मैग्नीशियम, पोटेशियम, क्लोराइड और कैल्शियम है। यदि इनमें से किसी भी तत्व की कमी शरीर में हो जाती है तो ऐसी स्थिति में इलेक्ट्रॉल पाउडर पीने की सलाह दी जाती है। स्वस्थ शरीर में इन सभी इलेक्ट्रोलिट्स का संतुलित मात्रा में होना बेहद जरुरी होता है। इन सभी के अपने अपने गुण हैं। (इलेक्ट्रॉल पाउडर के फायदे और नुकसान)

ज्यादातर इलेक्ट्रॉल पाउडर का उपयोग डिहाइड्रेशन यानी शरीर में पानी की कमी होने पर किया जाता है। इसका सेवन करने से तुरंत ही शरीर हाइड्रेट होने लगता है। दस्त लगने के दौरान भी शरीर में पानी की कमी होने लगती है, ऐसे में यदि इलेक्ट्रॉल पाउडर का सेवन किया जाए तो यह शरीर के लिए काफी फायदेमंद होता है। इसके साथ ही पेट में गैस की परेशानी होने पर भी इसका सेवन किया जाता है। किडनी की पथरी में भी इलेक्ट्रॉल पाउडर का उपयोग करना अच्छा माना जाता है। (इलेक्ट्रॉल पाउडर के फायदे और नुकसान)

जिस प्रकार शरीर में संतुलित मात्रा में इलेक्ट्रॉल पाउडर होने या शरीर में इलेक्ट्रॉल पाउडर की कमी होने, दोनों ही चीजों की वजह से शरीर पर प्रभाव पड़ता है। उसी प्रकार शरीर में अधिक मात्रा में इलेक्ट्रॉल पाउडर का सेवन करने की वजह से भी कई दुष्परिणाम हो सकते हैं। अधिक मात्रा में इलेक्ट्रॉल पाउडर का सेवन करने से बार बार पेशाब आने की समस्या हो सकती है। इसके साथ ही गंभीर रूप से बीमार लोगों को भी इसका सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए। (इलेक्ट्रॉल पाउडर के फायदे और नुकसान)

इलेक्ट्रॉल पाउडर के फायदे और नुकसान | Electral Powder ke fayde aur nuksan hindi mei
इलेक्ट्रॉल पाउडर | Electral Powder

इलेक्ट्रॉल पाउडर के फायदे (Benefits of Electral Power in hindi) –

  • डिहाइड्रेशन की समस्या में इलेक्ट्रॉल पाउडर पीने से शरीर में पानी की कमी पूरी होती है।
  • इलेक्ट्रॉल पाउडर शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स की कमी को संतुलित करने में मदद करता है।
  • पेट में गैस की समस्या को ठीक करने के लिए भी लग पाल पाउडर पिया जा सकता है।
  • इलेक्ट्राल पाउडर का सेवन करने से शरीर में स्फूर्ति आती है।
  • उल्टी दस्त जैसी परेशानियों में शरीर में पानी की कमी हो जाती है इसलिए इलेक्ट्रॉल पाउडर का सेवन करना फायदेमंद होता है।

इलेक्ट्रॉल पाउडर के नुकसान (Side effects of Electral Power in hindi) –

  • ब्लड प्रेशर एवं शुगर की बीमारी वाले मरीजों को इसका सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए।
  • अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से इसके दुष्परिणाम हो सकते हैं।
  • एलर्जीक लोगों को जाहिरी तौर पर इसका इस्तेमाल करने से बचना चाहिए।

यह भी पढ़े – लिव-52 सिरप के फायदे और नुकसान | Liv.52 Syrup ke fayde aur nuksan hindi mei

मेडरमा क्रीम के फायदे और नुकसान | Mederma Cream ke fayde aur nuksan hindi mei

इलेक्ट्रॉल पाउडर से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सवाल –

इलेक्ट्रॉल पाउडर पीने से क्या फायदा होता है?

डिहाइड्रेशन की समस्या में इलेक्ट्रॉल पाउडर का सेवन करने से काफी फायदा होता है।

इलेक्ट्रॉल पाउडर कैसे पीना चाहिए?

एक इलेक्ट्रॉल पाउडर के पाउच को 1 लीटर पानी में घोलकर पूरे दिन थोड़ा थोड़ा करके पीना चाहिए। इससे एक दिन में ही समाप्त करना चाहिए अथवा ज्यादा दिन नहीं चलाना चाहिए, इससे यह खराब हो सकता है।

ज़रूरी सूचना – इस लेख में सारी जानकारी तथ्यों के आधार पर दी गयी है, अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श ले। यह पेज इस जानकारी के लिए किसी भी ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.