ड्रैगन फ्रूट के फायदे और नुकसान | Benefits and side effects of dragon fruit

ड्रैगन फ्रूट के फायदे और नुकसान | Dragon fruit ke fayde aur nuksan hindi mei

ड्रैगन फ्रूट के फायदे और नुकसान | Dragon fruit ke fayde aur nuksan hindi mei

इस लेख में हम ऐसे फल की बात करने जा रहे है जिसके फायदे और नुकसान के बारे में बहोत ही कम लोग वाकिफ है। जी हाँ हम ड्रैगन फ्रूट की बात कर रहे है जो दिखने में बिलकुल ही अद्भुत और ड्रैगन की तरह दिखने वाला फल है जिसे पिताया (Pitaya) नाम से भी जाना जाता है। भारत में गुजरात सरकार ने इस फल को ‘कमलम्‘ नाम दिया है जो की संस्कृत से लिया गया है, क्योकिं यह फल दिखने में कमल के फूल की तरह दिखाई देता है। ड्रैगन फ्रूट की खेती दक्षिण पूर्व एशिया, अमेरिका, कैरेबियन और ऑस्ट्रेलिया में अधिक होती है।

ड्रैगन फ्रूट का वैज्ञानिक नाम हायलोसेरियस अंडैटस है। ड्रैगन फ्रूट का पेड़ नहीं होता है बल्कि यह एक बेल पर लगता है और यह हायलोसेरियस नाम वाले एक चढ़ाई वाले कैक्टस पर उगता है। दक्षिण अमेरिका और दक्षिणी एशिया में पाए जाने वाले इस फल के तने गूदेदार और रसीले होते हैं। ड्रैगन फ्रूट के फूल काफी सुगन्धित होते है जो रात में खिलते है और सुबह तक झड़ भी जाते है। इस ड्रैगन फ्रूट का सेवन सलाद, मुरब्बा, जेली और शेक बनाकर किया जा सकता है। (ड्रैगन फ्रूट के फायदे और नुकसान)

ड्रैगन फ्रूट (Dragon fruit)

राजस्थान में ड्रैगन फ्रूट की खेती-

भारत में फिलहाल ड्रैगन फ्रूट की खेती ज्यादातर कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, गुजरात, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश और अंडमान निकोबार द्वीप समूह में हो रही है। राजस्थान में भी ड्रैगन फ्रूट की खेती होने जा रही है। ड्रेगन फ्रूट की पैदावार के लिए राजस्थान के कोटा संभाग का वातावरण सक्षम है। बूंदी रोड के समीप नांता फार्म पर कैक्टस प्रजाति के ड्रेगन फ्रूट की खेती प्रदेश में पहली बार शुरू हुई है। (ड्रैगन फ्रूट के फायदे और नुकसान)

ड्रैगन फ्रूट का पौधा कैसा होता है-

ड्रेगेन फ्रूट मूलतः तीन प्रकार के होते हैं सफेद रंग के गुदे वाला लाल रंग का फल, लाल रंग के गुदे वाला लाल रंग का फल और सफेद रंग के गुदे वाला पीले रंग का फल। ड्रेगेन फ्रूट जलवायु का पौधा है। फलों के बढ़ने और पकने के समय गर्म एवं सुखी जलवायु की जरुरत होती है। ड्रैगन फ्रूट के पौधे में कमल के समान स्पाइक्स और पंखुड़ियां होती हैं, और इसका पौधा बिलकुल ड्रैगन की तरह दिखाई देता है। (ड्रैगन फ्रूट के फायदे और नुकसान)

ड्रैगन फ्रूट के फायदे (Benefits of eating dragon fruit in hindi) –

  • मधुमेह एक ऐसी बीमारी है जो अच्छे खानपान से कण्ट्रोल में की जा सकती है, अगर आप मधुमेह रोगी है तो ड्रैगन फ्रूट का सेवन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।
  •  ड्रैगन फ्रूट में एंटीऑक्सीडेंट और एंटीवायरल गुण पाए जाते हैं, जो वायरल संक्रमण से बचाने में असरदार साबित हो सकते है साथ ही ड्रैगन फ्रूट के सेवन से रोग प्रतिरोधक छमता भी बधाई जा सकती है।
  • ड्रैगन फ्रूट में कैल्शियम और फॉस्फोरस के तत्व काफी मात्रा पाए जाते है जो दांतो और हड्डियों के लिए काफी फायदेमन्द हो सकते है।
  • ड्रैगन फ्रूट में एक तरह का केमिकल पाया जाता है जो पेट की आंतो में हैल्थी बैक्टीरिया को जन्म देते है जिससे पाचन क्रिया को स्वस्थ रखने में मदद मिलती है।
  • ड्रैगन फ्रूट स्किन और बालों के लिए भी बहोत फायदेमंद होता है इसमें पाए जाने वाला फैटी एसिड बालों को हेल्दी रखने में मदद करता है।
  • ड्रैगन फ्रूट के सेवन से कोलेस्ट्राल भी नियंत्रण में रहता है।
  • हेल्थ एक्सपेर्टा की माने तो ड्रैगन फ्रूट के सेवन से कैंसर में फायदे देखे गए है।
  • ड्रैगन फ्रूट के सेवन से डेंगू जैसी घातक बीमारी से भी छुटकारा पाया जा सकता है इसके बीज भी इस बीमारी के लिए फायदेमन्द है।

ड्रैगन फ्रूट के नुकसान (Side effects of eating dragon fruit in hindi)

  • जिसको ड्रैगन फ्रूट से एलर्जी होती हो ऐसे लोगों को इसका सेवन करने से बचना चाहिए।
  • ड्रैगन फ्रूट की बाहरी परत को खाने से बचना चाहिए क्योकि इसको कीटाणुओ से सुरक्षित रखने के लिए इसपे कीटनाशक का छिड़काउ किया जाता है।
  • ड्रैगन फ्रूट का सेवन सिमित मात्रा में ही करे अन्यथा इसके कई शारीरिक नुकसान सामने आ सकते है।
  • इस फ्रूट में अधिक मात्रा में शुगर पायी जाती है ऐसे में मधुमेह रोगियों को इसका सेवन डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही करना चाहिए।
  • यदि आप वजन घटाने का प्लान कर रहे है तो ऐसे में ड्रैगन फ्रूट का सेवन सोच समझ कर या सिमित मात्रा में ही करे या फिर अपने डॉक्टर से आवश्यक रूप से परामर्श ले।

1 कप (225 ग्राम्स) ड्रैगन फ्रूट के पोषक तत्व –

कैलोरी136
कार्बोहाइड्रेट29 ग्राम्स
फाइबर7 ग्राम्स
प्रोटीन3 ग्राम्स
फेट0 ग्राम्स
विटामिन ईअनुशंसित आहार सेवन का 4%
विटामिन सीअनुशंसित आहार सेवन का 9%
आयरन अनुशंसित आहार सेवन का 8%
मैग्नीशियम अनुशंसित आहार सेवन का 18%
सोर्स-healthline.com

इसे भी पढ़े – तरबूज खाने का सही समय फायदे और नुकसान | Tarbuz khane ka sahi samay fayde aur nuksaan

ड्रैगन फ्रूट की तासीर क्या होती है?

ड्रैगन फ्रूट की तासीर ठंडी होती है इसलिए ठंडी चीज़ो से जिसे एलर्जी हो उसे इस फ्रूट के सेवन से परहेज़ करना चाहिए।

ड्रैगन फुट कैसे खाया जाता है?

ड्रैगन फ्रूट के छिलके को निश्चित रूप से पहले निकाल लेना चाहिए क्युकी उसकी परत पर कीट से बचाने के लिए कीटनाशक लगा हुआ होता है। ड्रैगन फ्रूट को ताज़ा ही खाना चाहिए आप उसके अंदर का गुदा टुकड़ो की शकल में या चम्मच से भी निकाल के खा सकते है साथ ही इसका सेवन आप सलाद के साथ भी कर सकते है।

ड्रैगन फ्रूट में कौन से विटामिन होते हैं?

ड्रैगन फ्रूट में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते है जो शरीर के लिए काफी फायदेमंद होते है। इसमें विटामिन ई, विटामिन सी के तत्व पाए जाते है।

क्या प्रेगनेंसी में ड्रैगन फ्रूट खा सकते हैं?

प्रेग्नेंसी के दौरान ड्रैगन फ्रूट का सेवन करना अच्छा माना जाता है क्योंकि यह विटामिन सी से भरपूर होता है और विटामिन सी गर्भवती महिला के लिए अच्छा माना जाता है।

ड्रैगन फ्रूट की खेती कब होती है?

इसकी खेती मार्च से जुलाई के बीच में की जाती है, इसके पौधे और बीज लगाने के लिए यही बेहतर समय होता है। बहुत ज्यादा पानी के साथ-साथ ज्यादा सूरज की किरणों से भी इसकी खेती प्रभावित हो सकती है। सूरज की रोशनी से इसे बचाने के लिए छायादार जगह पर इसकी खेती की जाती है या इसकी खेती करने हेतु छायादार व्यवस्था की जाती है।

ज़रूरी सूचना – इस लेख में सारी जानकारी तथ्यों के आधार पर दी गयी है, अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श ले। यह पेज इस जानकारी के लिए किसी भी ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.