चंद्रप्रभा वटी टेबलेट के फायदे और नुकसान | Chandraprabha Vati tablet ke fayde aur nuksan hindi mei

चंद्रप्रभा वटी टेबलेट के फायदे और नुकसान | Chandraprabha Vati tablet ke fayde aur nuksan hindi mei

चंद्रप्रभा वटी टेबलेट के फायदे और नुकसान | Chandraprabha Vati tablet ke fayde aur nuksan hindi mei

हैलो प्रिय दोस्तों, आज हमारी चर्चा का विषय है चंद्रप्रभा वटी टेबलेट के फायदे और नुकसान। चंद्रप्रभा वटी एक आयुर्वेदिक टेबलेट है। यह औषधीय गुणों से भरपूर होती है। इस लेख में हम यही जानेंगे कि चंद्रप्रभा वटी के फायदे और नुकसान क्या क्या है, इस में कौन-कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं, और कैसी स्थिति में लेना इसे फायदेमंद होता है। भारत में बहुत सारे ब्रांड चंद्रप्रभा वटी दवाई का निर्माण करते हैं। यह काफी किफायती दामों में बाजार में उपलब्ध होती है।

चंद्रप्रभा वटी टेबलेट एक आयुर्वेदिक दवाई है इसका मतलब यह है कि यह कोई भी केमिकल से मुक्त होती है। इसके साथ ही यह आयुर्वेदिक स्टोर पर आसानी से मिल जाती है। चंद्रप्रभा वटी टेबलेट में कई तरह के औषधीय तत्व जैसे गुग्गुल, शरकारा, शिलाजीत, लोहा भस्म विदा लवन, ट्रिविट, स्वर्णभक्षिका भस्म, वंक्षलोचन, तेजपत्ता, दालचीनी, दंती मूल, कपूर अतिविषा, हरिदार, वाचा, आमलकी, मुस्तक, विभितक, छाव्या, हरितकी, धनिया, पिपली मूल, गज पिपली, गुडूची, चित्रक छाल, दरवी, देवदारू, विदंगा, शुंधि, मारीच, भूनिंबा, सेंधव लवण, यवक्षर इत्यादि पाए जाते हैं।

जैसा कि नाम से ही ज्ञात है चंद्रप्रभा वटी यानी चांद जैसी चमक, जिसका मतलब है इसका सेवन करने से शरीर में कांति आ जाती है। इसका सेवन करने से एक नहीं बल्कि कई प्रकार के रोगों में फायदा होता है। किडनी से जुड़ी परेशानियों में भी चंद्रप्रभा वटी टेबलेट का सेवन करने से काफी हद तक राहत मिलती है। इसके साथ ही पेशाब में होने वाली जलन, बार-बार पेशाब आने जैसी समस्याओं में भी इसका सेवन करना फायदेमंद साबित हुआ है।

चंद्रप्रभा वटी टेबलेट का नियमित रूप से सेवन करने से शारीरिक थकान में काफी राहत मिलती है। इसके साथ चिंता और तनाव में भी इसका सेवन करने से फायदा देखने को मिला है। महिलाओं को आमतौर पर आजकल गर्भाशय से जुड़े काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है ऐसे में इस टेबलेट का सेवन करने से गर्भाशय मजबूत होता है और बार-बार गर्भपात होने की समस्या भी दूर हो सकती है। इसके साथ ही माहवारी से जुड़ी परेशानियों में भी चंद्रप्रभा वटी टेबलेट का सेवन करने से लाभ देखा गया है।

जिस तरह हर सिक्के के दो पहलू होते हैं, उसी तरह चंद्रप्रभा वटी टेबलेट को खाने से जहां एक ओर इतने फायदे हैं वहीं दूसरी और इसके कुछ नुकसान भी हैं। गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए। इसके साथ ही यदि आपको बीपी शुगर जैसी गंभीर समस्याएं हैं तो ऐसे में भी किसी भी दवाई का सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए। अधिक मात्रा में इस दवाई का सेवन करने से शारीरिक परेशानियां भी हो सकती है।

चंद्रप्रभा वटी टेबलेट के फायदे और नुकसान | Chandraprabha Vati tablet ke fayde aur nuksan
चंद्रप्रभा वटी टेबलेट | Chandraprabha Vati tablet

चंद्रप्रभा वटी टेबलेट के फायदे (Benefits of Chandraprabha Vati tablet in hindi) –

  • चंद्रप्रभा वटी टेबलेट का सेवन करने से किडनी से जुड़ी परेशानियों से राहत मिलती है।
  • इसका सेवन करने से बार बार पेशाब आना और पेशाब में जलन होने जैसी समस्याओं में भी फायदेमंद होता है।
  • चंद्रप्रभा वटी टेबलेट का सेवन करने से शारीरिक कमजोरी दूर होती है।
  • मानसिक चिंता तनाव में भी इसका सेवन करने से आसानी होती है।
  • चंद्रप्रभा वटी टेबलेट का सेवन करने से गर्भाशय मजबूत होता है व बार-बार गर्भपात होने की समस्या नहीं होती।
  • माहवारी के दौरान भी इस टेबलेट का सेवन करने से आसानी होती है।
  • चंद्रप्रभा वटी टेबलेट का सेवन करने से पुरुषों में फर्टिलिटी बढ़ती है।

चंद्रप्रभा वटी टेबलेट के नुकसान (Side effects of Chandraprabha Vati tablet in hindi) –

  • एलर्जीक लोगों को जाहिरी तौर पर इसका सेवन करने से बचना चाहिए।
  • गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए।
  • यदि आप किसी गंभीर बीमारी की दवाई ले रहे हैं तो ऐसे में भी डॉक्टर से परामर्श करके ही यह दवा लेनी चाहिए।
  • अधिक मात्रा में इस दवाई का सेवन करने से पेट से जुड़ी परेशानियां हो सकती है।

यह भी पढ़े – कायाकल्प वटी के फायदे और नुकसान | Kayakalp Vati ke fayde aur nuksan hindi mei

चंद्रप्रभा वटी टेबलेट से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सवाल –

चंद्रप्रभा वटी कितने दिन तक लेना चाहिए?

चंद्रप्रभा वटी का सेवन आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह पर ही लेना चाहिए।

चंद्रप्रभा वटी के नुकसान क्या है?

चंद्रप्रभा वटी में भरपूर मात्रा में लोहा यानी आयरन पाया जाता है। इस वजह से अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से पेट से जुड़ी समस्याएं जैसे पेट में जलन या अल्सर हो सकता है।

चंद्रप्रभा वटी में क्या क्या मिलाया जाता है?

चंद्रप्रभा वटी टेबलेट में कई तरह के औषधीय तत्व जैसे गुग्गुल, शरकारा, शिलाजीत, लोहा भस्म विदा लवन, ट्रिविट, स्वर्णभक्षिका भस्म, वंक्षलोचन, तेजपत्ता, दालचीनी, दंती मूल, कपूर अतिविषा, हरिदार, वाचा, आमलकी, मुस्तक, विभितक, छाव्या, हरितकी, धनिया, पिपली मूल, गज पिपली, गुडूची, चित्रक छाल, दरवी, देवदारू, विदंगा, शुंधि, मारीच, भूनिंबा, सेंधव लवण, यवक्षर इत्यादि पाए जाते हैं।

ज़रूरी सूचना – इस लेख में सारी जानकारी तथ्यों के आधार पर दी गयी है, अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श ले। यह पेज इस जानकारी के लिए किसी भी ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.