चंदन के फायदे और नुकसान | Chandan ke fayde aur nuksan hindi mei

चंदन के फायदे और नुकसान | Chandan ke fayde aur nuksan hindi mei

चंदन के फायदे और नुकसान | Chandan ke fayde aur nuksan hindi mei

हम सभी भली-भांति जानते हैं कि चंदन हमारी त्वचा के लिए कितना फायदेमंद है। ना केवल चंदन की लकड़ी बल्कि इसका तेल और इसके पाउडर से बनने वाला फेस पैक त्वचा को निखार देता है। चंदन के कई फायदे हैं तो इसके साथ ही इसके कई नुकसान भी है। आज हम इसी विषय पर चर्चा करेंगे कि चंदन के फायदे और नुकसान क्या क्या हैं। औषधीय गुणों से भरपूर चंदन का पेड़ काफी मूल्यवान होता है। भारत में सबसे ज्यादा इसकी खेती कर्नाटक में की जाती है। इसी के साथ कई अन्य जगहों पर भी इसकी खेती की जाती है।

चंदन की लकड़ी काफी सुगंधित होती है। इसकी सुगंध मन मोहने वाली होती है। इसलिए इसका उपयोग परफ्यूम इंडस्ट्री में व्यापक रूप से होता है। इसके साथ ही अगरबत्ती बनाने में भी चंदन का भारी मात्रा में इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा सभी जानते हैं कि चंदन त्वचा के लिए कितना उपयोगी होता है। (चंदन के फायदे और नुकसान)

यदि आप प्राकृतिक सौंदर्य चाहते हैं तो ऐसे में चंदन का उपयोग करना बेहद फायदेमंद हो सकता है। चंदन की तासीर ठंडी होती है। यह चेहरे पर होने वाले कील मुहांसों को ठीक करने में काफी हद तक कारगर साबित हुआ है। इसके साथ ही यह चेहरे के दाग धब्बों को भी काफी हल्का कर देता है। इसका उपयोग फेस पैक बनाकर किया जा सकता है। चंदन एक बेहद अच्छा एंटी एजिंग एजेंट है यह त्वचा पर दिखने वाले उम्र के संकेतों को कम करने में मदद करता है जैसे की झुर्रियां,लटकती हुई त्वचा इत्यादि।

चंदन ना केवल सौंदर्यता के लिए बल्कि शारीरिक फायदे के लिए भी उपयोग किया जाता है। चंदन के पेड़ की पत्तियां व लकड़ी इनमें खास प्रकार का रस होता है जो पेट की समस्याओं में इस्तेमाल किया जाता है।अल्सर की समस्या में चंदन के पत्ते काफी फायदेमंद होते हैं। इसके साथ ही चंदन का उपयोग अरोमा थेरेपी में भी किया जाता है। क्योंकि इसकी सुगंध बेहद अच्छी होती है, इससे मानसिक तनाव में काफी हद तक राहत मिलती है। और मूड अच्छा होता है। (चंदन के फायदे और नुकसान)

चंदन में एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। गर्मियों में यदि आपकी त्वचा पर छोटे- छोटे दाने या रैशेज हो जाते हैं या आपकी त्वचा लाल हो जाती है तो ऐसी स्थिति में चंदन का पेस्ट लगाने पर काफी हद तक आराम मिलता है। धूप से होने वाली टैनिंग में चंदन के पेस्ट का उपयोग करना काफी फायदेमंद होता है। मांसपेशियों के दर्द में चंदन के तेल की मालिश करने से दर्द में राहत मिलती है। (चंदन के फायदे और नुकसान)

जिस तरह हर सिक्के के 2 पहलू होते हैं, उसी तरह जहां चंदन के इतने फायदे हैं तो इसके कुछ नुकसान भी है। जैसा कि हम जानते हैं कि चंदन की तासीर ठंडी होती है ऐसे में चेहरे पर ज्यादा देर इसका इस्तेमाल करने से जुखाम की समस्या हो सकती है। औषधीय गुणों के कारण कुछ लोग चंदन का सेवन भी करते हैं इससे पेट से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं इसलिए किसी भी ऐसी चीज का सेवन डॉक्टर की परामर्श से ही करना चाहिए। (चंदन के फायदे और नुकसान)

चन्दन (Sandalwood)

चंदन के फायदे (Benefits of using Sandalwood/Chandan in hindi) –

  • त्वचा पर चंदन का उपयोग करने से त्वचा की रंगत साफ होती है।
  • चेहरे पर होने वाले कील मुहांसों और उनसे होने वाले दाग धब्बों को चंदन के पेस्ट से ठीक किया जा सकता है।
  • चंदन में एंटी एजिंग प्रॉपर्टी होती है,जो त्वचा को ज्यादा उम्र में भी फर्स्ट रखने में मदद करती है।
  • त्वचा पर होने वाले छोटे छोटे दाने या रैशेज पर चंदन का पेस्ट लगाने से राहत मिलती है।
  • सनबर्न या सन टैनिंग में भी चंदन काफी उपयोगी होता है।
  • अरोमा थेरेपी में चंदन का उपयोग करने से मानसिक तनाव में राहत मिलती है।
  • चंदन की पत्तियां और लकड़ी, पेट से जुड़ी समस्या जैसे अल्सर मैं फायदेमंद होती है।
  • चंदन का तेल मांसपेशियों के दर्द के लिए काफी अच्छा होता है।

चंदन के नुकसान (Side effects of using Sandalwood/Chandan in hindi) –

  • एलर्जिक लोगों को जाहिरी तौर पर इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • चंदन की तासीर ठंडी होती है इसलिए ज्यादा देर चेहरे पर इस्तेमाल करने से जुकाम हो सकता है।
  • चंदन का सेवन करने से पेट से जुड़ी समस्याएं हो सकती है।
  • सेंसिटिव त्वचा वाले लोगों को चंदन के इस्तेमाल से एलर्जी हो सकती है।
  • किसी भी ऐसी चीज का सेवन डॉक्टर के परामर्श से ही करना चाहिए।

चंदन से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सवाल –

चेहरे पर कौन सा चंदन लगाना चाहिए?

ऑथेंटिक चंदन की लकड़ी को घिसकर चेहरे पर लगाना चंदन इस्तेमाल करने का सबसे अच्छा तरीका होता है।

गुलाब जल और चंदन का पेस्ट लगाने से क्या होता है?

गुलाब जल और चंदन का पेस्ट लगाने से चेहरे पर होने वाले कील मुंहासे और उनसे होने वाले दाग धब्बे बहुत ही जल्दी ठीक हो जाते हैं।

असली चंदन की पहचान कैसे करें?

चंदन को पत्थर पर घिस कर देखें थोड़ी देर बाद यदि उसमें से सुगंध आनी शुरू हो जाती है तो वह चंदन असली चंदन है क्योंकि चंदन की सुगंध ही उसकी असली पहचान है।

हल्दी और चंदन चेहरे पर लगाने से क्या होता है?

तैलीय त्वचा यानी ऑइली फेस होने पर हल्दी और चंदन को गुलाब जल के साथ लगाने से बहुत फायदा होता है ये त्वचा में मौजूद अतिरिक्त तेल को अवशोषित करके त्वचा को अच्छी रंगत देते हैं।

यह भी पढ़े – मुल्तानी मिट्टी के फायदे और नुकसान बताइये | Multani mitti ke fayde aur nuksan bataiye hindi mei

ज़रूरी सूचना – इस लेख में सारी जानकारी तथ्यों के आधार पर दी गयी है, अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श ले। यह पेज इस जानकारी के लिए किसी भी ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.