Bhumi Amla khane ke fayde aur nuksan kya hai in hindi | भूमि आंवला खाने के फायदे और नुकसान क्या है हिंदी में

Bhumi Amla khane ke fayde aur nuksan kya hai in hindi | भूमि आंवला खाने के फायदे और नुकसान क्या है हिंदी में

Bhumi Amla khane ke fayde aur nuksan kya hai in hindi | भूमि आंवला खाने के फायदे और नुकसान क्या है हिंदी में

हेलौ प्रिय दोस्तों, आज हम इस लेख में बात करेंगे भूमि आंवला खाने के फायदे और नुकसान (Bhumi Amla khane ke fayde aur nuksan) के बारे में। यह एक आयुर्वेदिक दवाई माना जा सकता है। यह औषधीय गुणों से भरपूर होता है। इस लेख में हम यही जानेंगे कि भूमि आंवला खाने के फायदे और नुकसान क्या क्या है, इस में कौन-कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं, और कैसी स्थिति में लेना इसे फायदेमंद होता है। (Bhumi Amla khane ke fayde aur nuksan kya hai in hindi)

आजकल की बिजी लाइफ स्टाइल और खान-पान का असर सीधे सीधे तौर पर शरीर पर होता है। शरीर में बाहर के केमिकल्स की वजह से नई नई तरह की परेशानियां पैदा हो रही है। ऐसे में शरीर का ख्याल रखना बेहद जरूरी होता है। शरीर का ख्याल रखने और शरीर को स्वस्थ रखने के लिए भूमि आंवला का इस्तेमाल करने के बेहद फायदे हो सकते है। यह शरीर को कई प्रकार से लाभ पहुँचती है। परन्तु इसका सेवन आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह पर ही करें। (Bhumi Amla khane ke fayde aur nuksan kya hai in hindi)

भूमि आंवला या भुई आंवला आंवला की ही प्रजाति का एक पौधा है जो लम्बाई में काफी छोटा होता है। इसका उपयोग आयुर्वेद में कई प्रकार की दवाइयों को बनाने में किया जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम फाइलैन्थस यूरीनेरिया (Phyllanthus urinaria) है। इसका उपयोग न केवल दवाइयों में बल्कि सीधे तौर पर भी किया जा सकता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट, एंटीवायरल आदि कई तरह के लाभदायक गुण पाए जाते हैं। खास कर लिवर से जुड़ी समस्याओं में इसका इस्तेमाल व्यापक रूप से किया जाता है। (Bhumi Amla khane ke fayde aur nuksan kya hai in hindi)

Bhumi Amla khane ke fayde aur nuksan kya hai in hindi | भूमि आंवला खाने के फायदे और नुकसान क्या है हिंदी में
Bhumi Amla | भूमि आंवला

भूमि आंवला खाने के फायदे (Benefits of eating Bhumi Amla in hindi) –

  • भूमि आंवला का सबसे ज्यादा उपयोग लीवर की समस्याओं के लिए किया जाता है, यह लीवर की कई तरह की समस्याएं जैसे सूजन पीलिया आदि को दूर करने में सहायक होती है।
  • लीवर में से टॉक्सिंस को बाहर निकालकर लीवर को स्वस्थ बनाने में भी भूमि आंवला काफी कारगर होती है।
  • भूमि आंवला की तासीर ठंडी होती है इसलिए एसिडिटी से राहत पाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • भूमि आंवला पाचन क्रिया अच्छी करने में भी सहायक होती है।
  • भूमि आंवला मेटाबॉलिज्म को अच्छा करने में फायदेमंद होती है।
  • हाई ब्लड शुगर लेवल की समस्या को संतुलित करने के लिए भूमि आंवला का उपयोग किया जा सकता है।
  • माहवारी के दौरान अत्यधिक रक्त रिसाव को रोकने के लिए भी भूमि आंवला का उपयोग किया जा सकता है।
  • नक्सरी यानी नाक से खून बहने की समस्या में भी भूमि आंवला का उपयोग करना फायदेमंद होता है।
  • भूमि आंवला का सेवन करने से शरीर में मौजूद गंदे खून को साफ करने में सहायता मिलती है।
  • त्वचा से संबंधित कई रोगों को ठीक करने के लिए भूमि आंवला का उपयोग किया जाता है।
  • सर्दी खांसी अस्थमा आदि कई परेशानियों में भूमि आंवला का सेवन फायदेमंद होता है।
  • कम तापमान के बुखार को ठीक करने के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • पथरी की समस्या में भूमि आंवला का उपयोग करना फायदेमंद होता है।
  • गठिया के दर्द में भी भूमि आंवला का इस्तेमाल किया जा सकता है।

भूमि आंवला खाने के नुकसान (Side effects of eating Bhumi Amla in hindi) –

  • अधिक मात्रा में भूमि आंवला शरीर को नुकसान पहुंचा सकती है।
  • गंभीर बीमारी से पीड़ित लोगों को एवं गर्भवती महिलाओं को किसी भी चीज का सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए।
  • अधिक मात्रा में भूमि आंवला खाने से माहवारी अनियमित हो सकती है।

यह भी पढ़े – M2 टोन सिरप के फायदे और नुकसान | M2 tone syrup ke fayde aur nuksan hindi mei

हिमालय सेप्टलीन सिरप के फायदे और नुकसान | Himalaya Septilin Syrup ke fayde aur nuksan hindi mei

पतंजलि आंवला जूस के फायदे और नुकसान | Patanjali Amla juice ke fayde aur nuksan hindi mei

भूमि आंवला खाने से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सवाल –

भूमि आंवला कौन-कौन सी बीमारी में काम आता है?

भूमि आंवला कई तरह की समस्याओं को दूर करने में इस्तेमाल किया जाता है, जो ऊपर एक लेख में दिए गए हैं।

भुई आंवला या भू धात्री क्या है?

यह एक प्रकार का पौधा है, जिसका इस्तेमाल आयुर्वेदिक दवाई बनाने में किया जाता है।

ज़रूरी सूचना – इस लेख में सारी जानकारी तथ्यों के आधार पर दी गयी है, अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श ले। यह पेज इस जानकारी के लिए किसी भी ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.