बादाम रोगन तेल के फायदे और नुकसान | Badam Roghan tel ke fayde aur nuksan hindi mei

बादाम रोगन तेल के फायदे और नुकसान | Badam Roghan tel ke fayde aur nuksan hindi mei

बादाम रोगन तेल के फायदे और नुकसान | Badam Roghan tel ke fayde aur nuksan hindi mei

हेलौ प्रिय दोस्तों, आज हम इस लेख में बात करेंगे बादाम रोगन तेल के फायदे और नुकसान के बारे में। यह औषधीय गुणों भरपूर होता है। इस लेख में हम यही जानेंगे कि बादाम रोगन तेल के फायदे और नुकसान क्या क्या है, इस में कौन-कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं, और कैसी स्थिति में इस्तेमाल करना इसे फायदेमंद होता है। परन्तु आज कल शुद्ध बादाम तेल आसानी से नहीं मिल पाता है। भारत में बहुत ब्रांड्स ही बादाम तेल बनाते हैं। (बादाम रोगन तेल के फायदे और नुकसान)

आजकल की बिजी लाइफ स्टाइल और खान-पान का असर सीधे सीधे तौर पर शरीर पर होता है। शरीर में बाहर के केमिकल्स की वजह से नई नई तरह की परेशानियां पैदा हो रही है। ऐसे में शरीर का ख्याल रखना बेहद जरूरी है। इसके साथ ही आजकल के वातावरण में पॉल्यूशन बहुत ही ज्यादा है, ऐसे में चेहरे की मुलायम और नाजुक त्वचा को विशेष देखभाल की जरूरत होती है। पॉल्यूशन और धूल मिट्टी की वजह से भी त्वचा और बालों का स्वास्थ्य खराब हो सकता है। बादाम रोगन तेल इन सभी परेशानियों में किसी न किसी रूप में उपयोगी होता है।

बादाम रोगन तेल बादाम के तेल को ही कहा जाता है। प्राकृतिक रूप से जो तेल बादाम में मौजूद होता है उसी को निकालकर बादाम रोगन तेल बनाया जाता है। एक लंबी प्रक्रिया के द्वारा बादाम का तेल निकाला जाता है। इसका इस्तेमाल शरीर के बाहरी अंगों जैसे त्वचा और बाल के साथ-साथ खाने में भी किया जा सकता है। बादाम रोगन तेल में कई तरह के पोषक तत्व जैसे विटामिन E, विटामिन A, विटामिनB1, विटामिन B2, विटामिन B6, एंटीऑक्सीडेंट, फैटी एसिड, एंटीइन्फ्लेमेटरी, एंटीफंगल, पोटेशियम, फास्फोरस आदि पाए जाते हैं।

बादाम रोगन तेल में भरपूर मात्रा में मोनोअनसैचुरेटेड फैट पाया जाता है, जो शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल का लेवल कम करने में सहायक होता है। जिससे ह्रदय का स्वास्थ्य अच्छा रहता है। इसके साथ ही बादाम रोगन तेल का सेवन नर्वस सिस्टम यानी तंत्रिका तंत्र की कार्यप्रणाली अच्छी करने में भी मदद करता है। मोनोअनसैचुरेटेड फैट मेटाबॉलिज्म का स्तर बढ़ाने में मदद करती है इससे वजन कम करने में सहायता मिलती है। मेटाबॉलिज्म अच्छा होने से पाचन क्रिया भी अच्छी होती है, जिससे कब्ज जैसी समस्या में राहत मिलती है।

बादाम रोगन तेल में विटामिन ई भरपूर मात्रा में पाया जाता है, इसके साथ ही एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टी भी होती है। इसलिए यह आंखों के स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होता है। बादाम रोगन तेल को रात के समय गुनगुने दूध के साथ लेने पर अनिद्रा की समस्या को दूर किया जा सकता है। इसका सेवन करने से अच्छी नींद आती है। इसके साथ ही मानसिक तनाव में भी यह काफी कारगर होता है। इसका उपयोग एरोमा थेरेपी में भी किया जाता है। (बादाम रोगन तेल के फायदे और नुकसान)

यह सब बादाम रोगन तेल का सेवन करने के फायदे थे। यदि बादाम रोगन तेल को बाहरी शरीर के ऊपर इस्तेमाल किया जाए तो भी यह काफी लाभकारी होता है शरीर पर इसकी मालिश करने से त्वचा को नमी मिलती है। इसके साथ ही ठंड के मौसम में बादाम रोगन तेल की मालिश करने से शरीर को गर्माहट मिलती है। इसके साथ ही सिर पर इसकी मालिश करने से सर दर्द और तनाव जैसी समस्या में राहत मिलती है। (बादाम रोगन तेल के फायदे और नुकसान)

बादाम रोगन तेल त्वचा के स्वास्थ्य के लिए भी काफी अच्छा होता है। इसमें एंटी एजिंग प्रॉपर्टी पाई जाती है यह त्वचा को बढ़ती उम्र के लक्षणों से बचाता है। इसके साथ ही त्वचा पर इसका उपयोग करने से त्वचा यंग और सुंदर दिखाई देती है। आंखों के नीचे काले घेरे यानी डार्क सर्कल की समस्या में भी बादाम रोगन तेल काफी फायदेमंद होता है, क्योंकि इसमें विटामिन ई मौजूद होता है। इसका इस्तेमाल सन प्रोटेक्शन क्रीम के तरफ भी किया जा सकता है। इसके साथ ही टांको के निशान को कम करने के लिए भी यह कारगर है। (बादाम रोगन तेल के फायदे और नुकसान)

त्वचा के साथ-साथ बादाम रोगन तेल बालों की सेहत के लिए भी फायदेमंद होता है। बादाम रोगन तेल में पाए जाने वाला मैग्नीशियम बालों को पोषित करता है। बादाम रोगन तेल की मालिश बालों में करने से बाल स्वस्थ एवं नरिश दिखते हैं। इसके साथ ही बादाम रोगन तेल में एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टी भी पाई जाती है, जिसकी वजह से डैंड्रफ जैसी समस्या से लड़ने में भी यह कारगर है। यह सिर की खराब त्वचा को निकलने में मदद करता है। (बादाम रोगन तेल के फायदे और नुकसान)

जिस प्रकार हर सिक्के के 2 पहलू होते हैं उसी प्रकार जहां एक ओर बादाम रोगन तेल के इतने फायदे हैं वहीं दूसरी ओर इसके कुछ नुकसान भी हैं। अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से शरीर को दुष्परिणाम झेलने पड़ सकते हैं। इसके साथ ही गर्भवती एवं स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को भी इसका सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए। यदि आपकी स्किन ऑयली है तो ऐसे में इसका इस्तेमाल करने से पहले पैच टेस्ट करना चाहिए। (बादाम रोगन तेल के फायदे और नुकसान)

बादाम रोगन तेल के फायदे और नुकसान | Badam Roghan tel ke fayde aur nuksan hindi mei
बादाम रोगन तेल | Badam Roghan Oil

बादाम रोगन तेल के फायदे (Benefits of Almond Oil in hindi) –

  • बादाम रोगन तेल का सेवन करने से शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है।
  • यह पाचन क्रिया को ठीक करने में मदद करता है।
  • बादाम रोगन तेल ह्रदय के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है।
  • बादाम रोगन तेल तंत्रिका तंत्र को अच्छा रखने में भी सहायक होता है।
  • बादाम रोगन तेल का सेवन करने से कब्ज की परेशानी में आसानी हो सकती है।
  • दूध के साथ बादाम रोगन तेल का सेवन करने से अनिद्रा और मानसिक तनाव जैसी समस्या में राहत मिलती है।
  • बादाम रोगन तेल का इस्तेमाल त्वचा पर करने से त्वचा स्वस्थ रहती है।
  • डार्क सर्कल की समस्या में भी बादाम रोगन तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • बादाम रोगन तेल का इस्तेमाल बालों पर करने से बाल मजबूत होते हैं।
  • बादाम रोगन तेल की मालिश शरीर पर करने से गर्माहट मिलती है।

बादाम रोगन तेल के नुकसान (Side effects of Almond Oil in hindi) –

  • गर्भवती एवं स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को इसका सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए।
  • शुगर के मरीजों को भी इसका सेवन करने से बचना चाहिए।
  • अधिक मात्रा में त्वचा पर इसका इस्तेमाल करने से त्वचा ऑयली हो सकती है।
  • संतुलित मात्रा में इसका सेवन करने से या वजन कम करने में सहायक होता है लेकिन अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से मोटापा भी हो सकता है।

यह भी पढ़े – ओमेगा 3 कैप्सूल के फायदे और नुकसान | Omega-3 capsule ke fayde aur nuksan hindi mei

इलेक्ट्रॉल पाउडर के फायदे और नुकसान | Electral Powder ke fayde aur nuksan hindi mei

बादाम रोगन तेल से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सवाल –

बादाम रोगन तेल का इस्तेमाल कैसे किया जाता है?

बादाम रोगन तेल का इस्तेमाल खाने के साथ-साथ, त्वचा पर लगाने, बालों में इसकी मालिश करने में भी किया जाता है।

बादाम का तेल कौन सी कंपनी का अच्छा है?

बादाम का तेल हमदर्द, पतंजलि, डाबर आदि कंपनियों का अच्छा होता है।

ज़रूरी सूचना – इस लेख में सारी जानकारी तथ्यों के आधार पर दी गयी है, अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श ले। यह पेज इस जानकारी के लिए किसी भी ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.